मां को चुदते देखा part-2(Antarvasna Sex Story)

Antarvasna Sex Story

नमस्कार मित्रों मेरा नाम विजय है, मै आज आपके सामने अपनी पिछली कहानी (मां को चुदते देखा) का अगला भाग लेकर आया हूं। इस कहानी में पढिए किस तरह से मेरी मां की चुत की प्यास उन्हें ग्रुप सेक्स तक पहुंचा देती है। मेरी मां एक अनजान आदमी और उसके बॉस के साथ सेक्स कर रही थी।

अब तक आपने पढा, वो आदमी मेरी मां को उसके फार्म हाउस पर लेकर आया था। और आते ही उसने मेरी मां के चुचे आजाद करके उन्हें चूसना शुरू कर दिया।

मै यह सब एक जगह छुपकर देख रहा था। मेरी मां और वो आदमी दोनों ही हॉल में बैठे बैठे ही एक-दुसरे से लिपटते जा रहे थे। उस आदमी ने मेरी मां का पल्लू हटा दिया था, और फिर हाथ पीछे ले जाकर उसने ब्लाउज और ब्रा दोनों भी निकाल दिए।

अब उस आदमी के सामने मेरी मां की चुचियां नंगी अवस्था मे थी। अब वह आदमी नेरी मां की चुचियों को बारी बारी से मुंह मे लेकर चूसे जा रहा था। कुछ देर बाद तो मेरी मां के मुंह से भी सिसकारियां निकलने लगी थी।

शादी की पहली रात में चुदाई का माहौल बन गया- First Time Chudai

उसके मुंह से सिसकारियां निकलते ही मां ने भी अपने हाथ को उस आदमी के पीठ पर घुमाना शुरू कर दिया। दुसरे हाथ से वो उसका शर्ट भी निकाल रही थी। यहां उन दोनों को किसी के आने का डर नही था, तो दोनों ही पूरी तरह से बेशर्म होकर एक-दूसरे के बदन से खेल रहे थे।

अगले ही पल मां ने उस आदमी का शर्ट उतार दिया, अब मां उसकी छाती पर अपने हाथ घुमाने लगी। और बीच बीच मे उसके निप्पल अपनी उंगलियों में पकडकर खींच देती, जिससे उसके मुँह से दर्द की सीत्कारे निकल जाती।

वो आदमी भी अगले ही पल मां के निप्पल को अपने दातों के बीच पकडकर खींच देता था।

अब मां ने अपना हाथ सीधे ले जाकर उसकी पैंट के ऊपर से ही उसके लंड पर रख दिया। तो उसने भी मां की साडी के ऊपर से ही अपना हाथ चुत पर रख दिया।

एक बार को तो उसने पूरी चुत को ही अपनी मुट्ठी में भींच सा लिया, जिस वजह से मां ने उसे अपने से चिपका लिया। तभी उस आदमी ने अब मां की साडी को धीरे धीरे ऊपर ऊठाना शुरू कर दिया, और साडी को मां की जांघों तक लाकर रख दिया।

अब मां की गोरी चिट्टी जांघे नग्न अवस्था मे खुली थी। मां ने भी उस पर कोई ऐतबार ना दिखाते हुए, उसका हाथ अपने हाथ मे पकडकर उसे अपनी साडी के अंदर घुसेड दिया। उसे भी तो यही चाहिए था, उसने तुरंत ही मां की साडी को निकाल ही दिया।

साडी अलग करने के अगले ही पल उसने मेरी मां को खडी करके पेटीकोट का नाडा भी खोल दिया।

अब पेटीकोट भी जमीन पर गिर चुका था, और मां पूर्ण रूप से नंगी हो चुकी थी। मां को इस हालत में देखकर मुझे भी कुछ कुछ होने लगा था, मेरा भी लंड खडा होने लगा था। मां के चुचे काफी बडे लग रहे थे, उनमें अभी भी कसावट थी, वो अभी भी शान में खडे थे।

मां ने अपने शरीर पर अनचाहे बाल रखे नही थे, तो उनकी चुत के दीदार सीधे ही होने लगे थे। अब उस आदमी ने मां को वहीं पर सोफे पर लिटा दिया और मां के दोनों पैरों को अपने कंधों पर लेटे हुए फैला दिया।

मां के दोनों पैर अलग करते हुए वो खुद उन दो पैरों के बीच आ गया। दो पैरों के बीच आते ही उसने अपना मुंह मां की चुत पर रख दिया। अब मां उससे अपनी चुत चटवा रही थी, और वो भी मजे से चुत चुसाई कर रहा था।

वो आदमी चुत चुसाई करते हुए मां के उरोज दबाकर मजे भी ले रहा था। और बीच बीच मे अपने लौडे को भी सहला रहा था। कुछ देर मां की चुत चूसने के बाद, वो आदमी उठ गया और मां के सामने खडा हो गया।

तो मां ने भी उसकी पैंट उतार दी और चड्डी के ऊपर से ही उसके लौडे पर अपना मुंह लगा दिया। कुछ ही पलों में मां ने उसकी चड्डी भी नीचे खिसकाते हुए उतार दी।

चड्डी नीचे खिसकाते ही उसका लंड एक झटके से ऊपर निकल आया। उसका लंड काफी लंबा और मोटा था। इस आदमी का लंड देखकर मुझे फैजान अंकल का लौडा भी छोटा लगने लगा था।

उसका लंड बाहर आते ही उसने अपने हाथ मे लेते हुए मां के मुंह मे घुसा दिया। अब मां भी उसे किसी लॉलीपाप की तरह चूस रही थी।

पहले तो मां ने उसके लंड पर अपनी जीभ घुमाई, फिर उसके टोपे को अपने मुंह मे भरते हुए कामुक अंदाज में चूसने लगी। जैसे ही मां ने उसका लंड चूसना शुरू कर दिया, उसने आहें भरना चालू कर दिया।

मां ने अभी लंड चूसना शुरू ही किया था कि, कुछ देर में ही उसका बॉस वहां आ पहुंचा। बॉस को देखते ही मां ने उस आदमी के लौडे को अपने मुंह से बाहर निकाल लिया। और उठकर बॉस के गले मिलने चली गई।

उसके बॉस ने भी अपनी बाहें फैलाते हुए उसका स्वागत किया। बॉस ने मां को गले लगाते हुए कहा, “आज मेरे आने से पहले ही शुरू हो गए, कुछ देर रुक जाते।”

तो मां ने अपनी चुत की तरफ इशारा करते हुए कहा, “यह तुम्हारी मुनिया में बहुत खुजली हो रही थी, इसलिए हमने शुरू कर दिया। अब तुम आ गए हो, तो तुम ही संभालो इसे।”

तो बॉस ने अपना एक हाथ नीचे ले जाकर मां की चुत के होठों को फैलाकर देखा। और फिर अपने हाथ मे थोडा थूक लेकर उसे मां की चुत पर मल दिया।

उसी के साथ बॉस ने मेरी मां की चुत में अपनी एक उंगली डाल दी। तो मां ने भी बडी अदा के साथ अपना हाथ उनके लंड पर रखकर पैंट के ऊपर से ही बॉस के लंड को सहलाने लगी।

बॉस ने भी अब ज्यादा देर न करते हुए मां को उस आदमी के पास भेज दिया और इधर खुद अपने कपडे उतारने लगा। कपडे उतारने के बाद वह भी उन दोनों के पास आकर मेरी मां के बदन से खेलने लग गया।

मां इन दोनों की हरकतों का मजा लिए जा रही थी। तभी मां नीचे अपने घुटनों पर बैठ गई, और दोनों के लौडों को अपने दोनों हाथ मे ले लिया।

अब मां बारी बारी से दोनों के लंड चूसने लगी थी। तभी उस आदमी ने बॉस को कुछ इशारा किया और बॉस वहां से हटकर कुछ दूर सोफे पर बैठ गया।

बॉस के हटते ही उस आदमी ने मां के सर को पीछे बालों से पकड लिया और अब जबरदस्ती से मां के मुंह मे अपना लंड अंदर बाहर करने लगा। वो अपने लंड से मेरी मां के मुंह को चोद रहा था।

जब भी वह अपना पूरा लौडा मां के मुंह के अंदर घुसा देता तो मां के मुंह से बस गुँ गुँ की आवाज ही आती थी। कुछ देर तक ऐसे ही वो मां के मुंह को चोदता रहा, और थोडी देर बाद उसने अपना सारा वीर्य मेरी मां के मुंह मे ही निकाल दिया।

अब तक मां की हालत भी खराब हो चुकी थी, और उसने तब तक अपना लंड बाहर नही निकाला जब तक मां सारा वीर्य गटक ना गई हो। सारा वीर्य गटक जाने के बाद, मां कुछ देर के लिए बाथरूम चली गई, और अपने आप को साफ करके लौट आई।

अब वो जाकर सीधे बॉस के पास बैठ गई। तो बॉस ने मां को अपनी जांघों पे बिठा लिया और उसके हाथ मे अपना लंड पकडा दिया। जैसे कोई छोटे बच्चे को खिलौना पकडा देता है।

कुछ देर तक वो ऐसे ही खेलते रहे, फिर मां ने उसका लंड पकडकर अपनी चुत उस पर टिका दी। इस तरह से बैठे बैठे ही मां अपनी चुत में बॉस का लंड लेना चाहती थी। बॉस ने भी इसमें मां की पूरी सहायता की।

अब कुछ ही पलों में बॉस का लंड मेरी मां की चुत में पूरी तरह से घुस चुका था। और मां अपनी कमर उछालकर अपनी चुत बॉस से चुदवा रही थी।

थोडी देर तक बॉस मां को चोदते रहे, उसके बाद वो आदमी भी आ गया। फिर मां ने उसे अपने पीछे से आकर गांड में लंड डालने को कहा।

मां के कहे अनुसार वो आदमी पीछे जाकर मां की गांड में अपना लंड डालने लगा। अब मां आगे और पीछे दोनों तरफ से चुद रही थी।

ऐसे ही इनकी चुदाई चलती रही। तीनो ने मिलकर पूरे दिन में चार बार चुदाई की। और फिर वो आदमी मां को वापस घर छोडकर चला गया।

आपको मेरी कहानी कैसी लगी, हमे कमेंट में बताइए। धन्यवाद।

No Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Antarvasna Sex Story
चूत हमारी देसी, चोद गया पडोसी- Antarvasna Sex Story

हैल्लो दोस्तों.. हमारा नाम वर्षा है और मै गोवा मै रहती हूँ। हमारी उम्र 20 साल है और मै एक मध्यमवर्गीय परिवार से हूँ। हमारा रंग गोरा है और हमारी हाईट 5.4 इंच है। मै सुंदर दिखती हूँ और बहुत से लड़को ने हमे कई बार प्रोपज किया है लेकिन …

XXX Story
सम्भोग गाथा – पति, पत्नी और गैर मर्द- XXX Story in Hindi

हैल्लो फ्रेंड्स.. में अपनी सम्भोग गाथा आज आप लोगो के सामने पेश कर रही हूँ। फ्रेंड्स हमारी मित्र का नाम नम्रता है और आप सभी को हमारी तरफ से नमस्ते.. फ्रेंड्स आप सभी की ही तरह में भी इस साईट की बहुत बड़ी दीवानी हूँ और हमे इस साईट पर …

Antarvasna Sex Story
पति-पत्नी का हनीमून सेक्स- Antarvasna Sex Story

मेरा नाम आकाश है और में २९ साल का शादिशुदा लड़का हु। मेरे बारे में बताना चाहा तो में कंपनी में काम करता हु। में पुणे में मेरे बिवी के साथ रहता हू। घर मे हम दोन्हों ही रहते है और हम बहुत खुश है। मेरी बीवी का नाम परी …