ट्रेन के सफर में अनजान कपल की चुदाई | XXX Hindi Story

ट्रेन के सफर में अनजान कपल की चुदाई | XXX Hindi Story
Desi Sex Kahani

“ये मैं कहा हूँ. मैं तो अपने कमरे में नींद की गोली ले कर सोई थी.मैं यहा कैसे आ गयी ? किसका कमरा है ये ?”

आँखे खुलते ही आलिया के मन में हज़ारों सवाल घूमने लगते हैं. एक अंजाना भय उसके मन को घेर लेता है.

वो कमरे को बड़े गोर से देखती है. “कही मैं सपना तो नही देख रही” आलिया सोचती है.

“नही नही ये सपना नही है…पर मैं हूँ कहा?” आलिया हैरानी में पड़ जाती है.

वो हिम्मत करके धीरे से बिस्तर से खड़ी हो कर दबे पाँव कमरे से बाहर आती है.

“बिल्कुल सुनसान सा माहोल है…आख़िर हो क्या रहा है.”

आलिया को सामने बने किचन में कुछ आहट सुनाई देती है.
“किचन में कोई है…कौन हो सकता है….?”

आलिया दबे पाँव किचन के दरवाजे पर आती है. अंदर खड़े लड़के को देख कर उसके होश उड़ जाते हैं.

“अरे ! ये तो राज है… ये यहा क्या कर रहा है…क्या ये मुझे यहा ले कर आया है…इसकी हिम्मत कैसे हुई” आलिया दरवाजे पर खड़े खड़े सोचती है.

राज उसका क्लास मेट था और पड़ोसी भी. राज और आलिया के परिवारों में बिल्कुल नही बनती थी. अक्सर राज की मम्मी और आलिया की अम्मी में किसी ना किसी बात को ले कर कहा सुनी हो जाती थी. इन पड़ोसियों का झगड़ा पूरे मोहल्ले में मशहूर था. अक्सर इनकी भिड़ंत देखने के लिए लोग इक्कठ्ठा हो जाते थे.

आलिया और राज भी एक दूसरे को देख कर बिल्कुल खुश नही थे. जब कभी कॉलेज में वो एक दूसरे के सामने आते थे तो मूह फेर कर निकल जाते थे. हालत कुछ ऐसी थी कि अगर उनमे से एक कॉलेज की कॅंटीन में होता था तो दूसरा कॅंटीन में नही घुसता था. शुक्र है कि दोनो अलग अलग सेक्शन में थे. वरना क्लास अटेंड करने में भी प्रॉब्लेम हो सकती थी.

ट्रेन के सफर में अनजान कपल की चुदाई | XXX Hindi Story

“क्या ये मुझ से कोई बदला ले रहा है ?” आलिया सोचती है.

अचानक आलिया की नज़र किचन के दरवाजे के पास रखे फ्लॉवर पॉट पर पड़ी. उसने धीरे से फ्लॉवर पॉट उठाया.

राज को अपने पीछे कुछ आहट महसूस हुई तो उसने तुरंत पीछे मूड कर देखा. जब तक वो कुछ समझ पाता… आलिया ने उसके सर पर फ्लॉवर पॉट दे मारा.

राज के सर से खून बहने लगा और वो लड़खड़ा कर गिर गया.

“तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई मेरे साथ ऐसी हरकत करने की.” आलिया चिल्लाई.

आलिया फ़ौरन दरवाजे की तरफ भागी और दरवाजा खोल भाग कर अपने घर के बाहर आ गयी.

पर घर के बाहर पहुँचते ही उसके कदम रुक गये. उसकी आँखे जो देख रही थी उसे उस पर विश्वास नही हो रहा था. वो थर-थर काँपने लगी.

उसके अध-जले घर के बाहर उसके अब्बा और अम्मी की लाश थी और घर के दरवाजे पर उसकी छोटी बहन फातिमा की लाश निर्वस्त्र पड़ी थी. गली मैं चारो तरफ कुछ ऐसा ही माहोल था.

आलिया को कुछ समझ नही आता. उसकी आँखो के आगे अंधेरा छाने लगता है और वो फूट-फूट कर रोने लगती है.

इतने में राज भी वहा आ जाता है.आलिया उसे देख कर भागने लगती है….पर राज तेज़ी से आगे बढ़ कर उसका मूह दबोच लेता है और उसे घसीट कर वापिस अपने घर में लाकर दरवाजा बंद करने लगता है.

आलिया को सोफे के पास रखी हॉकी नज़र आती है.वो भाग कर उसे उठा कर राज के पेट में मारती है और तेज़ी से दरवाजा खोलने लगती है. पर राज जल्दी से संभाल कर उसे पकड़ लेता है

“पागल हो गयी हो क्या… कहा जा रही हो.. दंगे हो रहे हैं बाहर. इंसान… भेड़िए बन चुके हैं.. तुम्हे देखते ही नोच-नोच कर खा जाएँगे”

आलिया ये सुन कर हैरानी से पूछती है, “द.द..दंगे !! कैसे दंगे?”

“एक ग्रूप ने ट्रेन फूँक दी…….. और दूसरे ग्रूप के लोग अब घर-बार फूँक रहे हैं… चारो तरफ…हा-हा-कार मचा है…खून की होली खेली जा रही है”

“मेरे अम्मी,अब्बा और फातिमा ने किसी का क्या बिगाड़ा था” —आलिया कहते हुवे सूबक पड़ती है

“बिगाड़ा तो उन लोगो ने भी नही था जो ट्रेन में थे…..बस यू समझ लो कि करता कोई है और भरता कोई… सब राजनीतिक षड्यंत्र है”

“तुम मुझे यहा क्यों लाए, क्या मुझ से बदला ले रहे हो ?”

“जब पता चला कि ट्रेन फूँक दी गयी तो मैं भी अपना आपा खो बैठा था”

“हां-हां माइनोरिटी के खिलाफ आपा खोना बड़ा आसान है”

Train Ki Chudai ki Kahani

“मेरे मा-बाप उस ट्रेन की आग में झुलस कर मारे गये, जरीना…कोई भी अपना आपा खो देगा.”

“तो मेरी अम्मी और अब्बा कौन सा जिंदा बचे हैं.. और फातिमा का तो रेप हुवा लगता है. हो गया ना तुम्हारा हिसाब बराबर… अब मुझे जाने दो” आलिया रोते हुवे कहती है.

“ये सब मैने नही किया समझी… तुम्हे यहा उठा लाया क्योंकि फातिमा का रेप देखा नही गया मुझसे….अभी रात के २ बजे हैं और बाहर करफ्यू लगा है.माहोल ठीक होने पर जहाँ चाहे चली जाना”

“मुझे तुम्हारा अहसान मंजूर नही…मैं अपनी जान दे दूँगी”

आलिया किचन की तरफ भागती है और एक चाकू उठा कर अपनी कलाई की नस काटने लगती है

राज भाग कर उसके हाथ से चाकू छीन-ता है और उसके मूह पर ज़ोर से एक थप्पड़ मारता है.आलिया थप्पड़ की चोट से लड़खड़ा कर गिर जाती है और फूट-फूट कर रोने लगती है.

“चुप हो जाओ.. बाहर हर तरफ वहशी दरिंदे घूम रहे हैं.. किसी को शक हो गया कि तुम यहा हो तो सब गड़बड़ हो जाएगा”

“क्या अब मैं रो भी नही सकती… क्या बचा है मेरे पास अब.. ये आँसू ही हैं.. इन्हे तो बह जाने दो”

राज कुछ नही कहता और बिना कुछ कहे किचन से बाहर आ जाता है.आलिया रोते हुवे वापिस उसी कमरे में घुस जाती है जिसमे उसकी कुछ देर पहले आँख खुली थी.

अगली सुबह आलिया उठ कर बाहर आती है तो देखती है कि राज खाना बना रहा है.

राज आलिया को देख कर पूछता है, “क्या खाओगी ?”

“ज़हर हो तो दे दो”

“वो तो नही है.. टूटे-फूटे पराठे बना रहा हूँ….यही खाने पड़ेंगे..….आऊउच…” राज की उंगली जल गयी.

“क्या हुवा…. ?”

“कुछ नही उंगली ज़ल गयी”

“क्या पहले कभी तुमने खाना बनाया है ?”

“नही, पर आज…बनाना पड़ेगा.. अब वैसे भी मम्मी के बिना मुझे खुद ही बनाना पड़ेगा ”

आलिया कुछ सोच कर कहती है, “हटो, मैं बनाती हूँ”

“नही मैं बना लूँगा”

“हट भी जाओ…जब बनाना नही आता तो कैसे बना लोगे”

“एक शर्त पर हटूँगा”

“हां बोलो”

“तुम भी खाओगी ना?”

“मुझे भूक नही है”

“मैं समझ सकता हूँ जरीना, तुम्हारी तरह मैने भी अपनो को खोया है. पर ज़ींदा रहने के लिए हमें कुछ तो खाना ही पड़ेगा”

“किसके लिए ज़ींदा रहूं, कौन बचा है मेरा?”

“कल मैं भी यही सोच रहा था. पर जब तुम्हे यहा लाया तो जैसे मुझे जीनेका कोई मकसद मिल गया”

“पर मेरा तो कोई मकसद नही………”

“है क्यों नही? तुम इस दौरान मुझे अच्छा-अच्छा खाना खिलाने का मकसद बना लो… वक्त कट जाएगा. करफ्यू खुलते ही मैं तुम्हे सुरक्षित जहा तुम कहो वहा पहुँचा दूँगा” – राज हल्का सा मुस्कुरा कर बोला

xxx story anjaan couple ki chudai

आलिया भी उसकी बात पर हल्का सा मुस्कुरा दी और बोली, “चलो हटो अब…. मुझे बनाने दो”

“क्या मैं किसी तरह दिल्ली पहुँच सकती हूँ, मेरी मौसी है वहा?”

“चिंता मत करो, माहोल ठीक होते ही सबसे पहला काम यही करूँगा”

आलिया राज की ओर देख कर सोचती है, “कभी सोचा भी नही था कि जिस इंसान से मैं बात भी करना पसंद नही करती, उसके लिए कभी खाना बनाऊंगी”

राज भी मन में सोचता है, “क्या खेल है किस्मत का? जिस लड़की को देखना भी पसंद नही करता था, उसके लिए आज कुछ भी करने को तैयार हूँ. शायद यही इंसानियत है”

धीरे-धीरे वक्त बीत-ता है और दोनो अच्छे दोस्त बनते जाते हैं. एक दूसरे के प्रति उनके दिल में जो नफ़रत थी वो ना जाने कहा गायब हो जाती है.

वो २४ घंटे घर में रहते हैं. कभी प्यार से बात करते हैं कभी तकरार से. कभी हंसते हैं और कभी रोते हैं. वो दोनो वक्त की कड़वाहट को भुलाने की पूरी कॉसिश कर रहे हैं.

एक दिन राज आलिया से कहता है, “तुम चली जाओगी तो ना जाने कैसे रहूँगा मैं यहा. तुम्हारे साथ की आदत सी हो गयी है. कौन मेरे लिए अच्छा-अच्छा खाना बनाएगा. समझ नही आता कि मैं तब क्या करूँगा?”

“तुम शादी कर लेना, सब ठीक हो जाएगा”

“और फिर भी तुम्हारी याद आई तो?”

“तो मुझे फोन किया करना”

आलिया को भी राज के साथ की आदत हो चुकी है. वो भी वहा से जाने के ख्याल से परेशान तो हो जाती है, पर कहती कुछ नही.

More Hindi Kahani :- सील तोड़ने का मज़ा

एक महिने बाद: —
“जरीना, उठो दिन में भी सोती रहती हो”

“क्या बात है? सोने दो ना”

“करफ्यू खुल गया है. मैं ट्रेन की टिकट बुक करा कर आता हूँ. तुम किसी बात की चिंता मत करना, मैं जल्दी ही आ जाऊंगा”

“अपना ख्याल रखना राज”

“ठीक है…सो जाओ तुम कुंभकारण कहीं की …हा..हा..हा…हा….”

“वापिस आओ मैं तुम्हे बताती हूँ” — आलिया राज के उपर तकिया फेंक कर बोलती है

राज हंसते हुवे वहा से चला जाता है.जब वो वापिस आता है तो आलिया को किचन में पाता है

“बस ५ दिन और…फिर तुम अपनी मौसी के घर पर होगी”

“५ दिन और का मतलब? ……मुझे क्या यहा कोई तकलीफ़ है?”

“तो रुक जाओ फिर यहीं…अगर कोई तकलीफ़ नही है तो”

आलिया राज के चेहरे को बड़े प्यार से देखती है. उसका दिल भावुक हो उठता है.

“क्या तुम चाहते हो कि मैं यहीं रुक जाऊ?”

“नही-नही मैं तो मज़ाक कर रहा था बाबा. ऐसा चाहता तो टिकट क्यों बुक कराता?” — ये कह कर राज वहा से चल देता है. उसे पता भी नही चलता की उसकी आँखे कब नम हो गयी.

इधर आलिया मन ही मन कहती है, “तुम रोक कर तो देखो मैं तुम्हे छोड कर कहीं नही जाऊंगी”

वो ५ दिन उन दोनो के बहुत भारी गुज़रते हैं. राज आलिया से कुछ कहना चाहता है, पर कुछ कह नही पाता. आलिया भी बार-बार राज को कुछ कहने के लिए खुद को तैयार करती है पर राज के सामने आने पर उसके होन्ट सिल जाते हैं.

जिस दिन आलिया को जाना होता है, उस से पिछली रात दोनो रात भर बाते करते रहते हैं. कभी कॉलेज के दिनो की, कभी फिल्मो की और कभी क्रिकेट की. किसी ना किसी बात के बहाने वो एक दूसरे के साथ बैठे रहते हैं. मन ही मन दोनो चाहते हैं कि काश किसी तरह बात प्यार की हो तो अच्छा हो. पर बिल्ली के गले में घंटी बाँधे कौन ? दोनो प्यार को दिल में दबाए, दुनिया भर की बाते करते रहते हैं.

सुबह ६ बजे की ट्रेन थी. वो दोनो ४ बजे तक बाते करते रहे. बाते करते-करते उनकी आँख लग गयी और दोनो बैठे-बैठे सोफे पर ही सो गये.

कोई ५ बजे राज की आँख खुलती है. उसे अपने पाँव पर कुछ महसूस होता है.वो आँख खोल कर देखता है कि आलिया ने उसके पैरो पर माथा टिका रखा है

“अरे!!!!!! ये क्या कर रही हो?”

“अपने खुदा की इबादत कर रही हूँ, तुम ना होते तो मैं आज हरगिज़ जींदा ना होती”

“मैं कौन होता हूँ जरीना, सब उस भगवान की कृपा है, चलो जल्दी तैयार हो जाओ, ५ बज गये हैं, हम कहीं लेट ना हो जायें”

आलिया वहा से उठ कर चल देती है और मन ही मन कहती है, “मुझे रोक लो राज”

“क्या तुम रुक नही सकती जरीना…बहुत अच्छा होता जो हम हमेशा इस घर में एक साथ रहते.” राज भी मन में कहता है.

हजारो जिंदगियो के लिये शाप बना यह दंगा राज और जरिना के लिये एक नयी जिंदगी बनता हे.एक अनोखा बंधन दोनो के बीच जुड़ चुका है.

५:३० बजे राज, आलिया को अपनी बाइक पर रेलवे स्टेशन ले आता है.

आलिया को रेल में बैठा कर राज कहता है, “एक सर्प्राइज़ दूं”

“क्या? ”

“मैं भी तुम्हारे साथ आ रहा हूँ”

“सच!!!!”

“और नही तो क्या… मैं क्या ऐसे माहोल में तुम्हे अकेले दिल्ली भेजूँगा”

“तुम इंसान हो कि खुदा…कुछ समझ नही आता”

“एक मामूली सा इंसान हूँ जो तुम्हे…………”

“तुम्हे… क्या?” आलिया ने प्यार से पूछा

“कुछ नही”

राज मन में कहता है, “……….जो तुम्हे बहुत प्यार करता है”

जो बात आलिया सुन-ना चाहती है, वो बात राज मन में सोच रहा है, ऐसा अजीब प्यार है उसका.

ट्रेन चलती है. राज और आलिया खूब बाते करते हैं….बातो-बातो में कब वो दिल्ली पहुँच जाते हैं….उन्हे पता ही नही चलता

ट्रेन से उतरते वक्त आलिया का दिल भारी हो उठता है. वो सोचती है कि पता नही अब वो राज से कभी मिल भी पाएगी या नही.

“अरे सोच क्या रही हो…उतरो जल्दी” राज ने कहा.

आलिया को होश आता है और वो भारी कदमो से ट्रेन से उतरती है.

“चलो अब सिलमपुर के लिए ऑटो करते हैं” राज ने एक ऑटो वाले को इशारा किया.

“क्या तुम मुझे मौसी के घर तक छोड़ कर आओगे?”

“और नही तो क्या… इसी बहाने तुम्हारा साथ थोड़ा और मिल जाएगा”

आलिया ये सुन कर मुस्कुरा देती है.

राज के इशारे से एक ऑटो वाला रुक जाता है और दोनो उसमे बैठ कर सिलमपुर की तरफ चल पड़ते हैं.

आलिया रास्ते भर किन्ही गहरे ख़यालो में खोई रहती है. राज भी चुप रहता है.

एक घंटे बाद ऑटो वाला सिलमपुर की मार्केट में ऑटो रोक कर पूछता है, “कहा जाना है… कोई पता-अड्रेस है क्या?”

“ह्म्म…..भैया यही उतार दो. राज, मौसी का घर सामने वाली गली में है” आलिया ने कहा.

“शुक्र है तुम कुछ तो बोली.” राज ने कहा.

“तुम भी तो चुप बैठे थे मोनी बाबा बन कर…क्या तुम कुछ नही बोल सकते थे.”

“अच्छा-अच्छा अब उतरो भी…ऑटो वाला सुन रहा है.” दोनो के बीच तकरार शुरू हो जाती है.

आलिया ऑटो से उतरती है. “राज आइ आम सॉरी पर तुम कुछ बोल ही नही रहे थे.”

“ठीक है कोई बात नही. शांति से अपने घर जाओ…मुझे भूल मत जाना.”

“तुम्हे भूलना भी चाहूं तो भी भुला नही पाउंगी”

“देखा हो गयी ना अपनी बाते शुरू.” राज ने मुस्कुराते हुवे कहा.

आलिया ने उस गली की और देखा जिसमे उसकी मौसी का घर था और गहरी साँस ली. “चलु मैं फिर”

थोड़ी देर दोनो में खामोशी बनी रहती है. राज आलिया को देखता रहता है. “जाते जाते कुछ कहोगी नही” राज ने कहा.

“राज अब क्या कहूँ…तुम्हारा शुक्रिया करूँ भी तो कैसे, समझ नही आता”

“शुक्रिया उस खुदा का करो जिसने हमे इंसान बनाया है…. मेरा शुक्रिया क्यों करोगी?”

“कभी खाना बुरा बना हो तो माफ़ करना, और जल्दी शादी कर लेना, तुम अकेले नही रह पाओगे”

“ठीक है..ठीक है….अब रुलाओगि क्या.. चलो जाओ अपनी मौसी के घर”

“ठीक है राज अपना ख्याल रखना और हां मैने जो उस दिन तुम्हारे सर पर फ्लॉवर पॉट मारा था उसके लिए मुझे माफ़ कर देना”

“और उस हॉकी का क्या?”

आलिया शर्मा कर मुस्कुरा पड़ती है और कहती है, “हां उसके लिए भी”

“ठीक है बाबा जाओ अब…. लोग हमें घूर रहे हैं”

आलिया भारी कदमो से मूड कर चल पड़ती है और राज उसे जाते हुवे देखता रहता है.

वो उसे पीछे से आवाज़ देने की कोशिश करता है पर उसके मूह से कुछ भी नही निकल पाता.

आलिया गली में घुस कर पीछे मूड कर राज की तरफ देखती है. दोनो एक दूसरे को एक दर्द भरी मुस्कान के साथ अलविदा करते हैं. उनकी दर्द भारी मुस्कान में उनका अनौखा प्यार उभर आता है. पर दोनो अभी भी इस बात से अंजान हैं कि वो ना चाहते हुवे भी एक अनोखे बंधन में बँध चुके हैं. प्यार के बंधन में.

जब आलिया गली में ओझल हो जाती है तो राज मूड कर भारी मन से चल पड़ता है.

“पता नही कैसे जी पाऊंगा आलिया के बिना मैं? काश! एक बार उसे अपना दिल चीर कर दीखा पाता…क्या वो भी मुझे प्यार करती है? लगता तो है. पर कुछ कह नही सकते”राज चलते-चलते सोच रहा है.

अचानक उसे पीछे से आवाज़ आती है

“राज!!! रूको….”

राज मूड कर देखता है.

उसके पीछे आलिया खड़ी थी. उसकी आँखो से आँसू बह रहे थे.

“अरे तुम रो रही हो… तुम्हे तो अपने, अपनो के पास जाते वक्त खुश होना चाहिए”

“तुम से ज़्यादा मेरा अपना कौन हो सकता है राज… मुझे खुद से दूर मत करो”

राज की भी आँखे छलक उठती हैं और वो दौड़ कर आलिया को गले लगा कर
कहता है, “क्यों जा रही थी फिर तुम मुझे छोड कर?”

“तुम मुझे रोक नही सकते थे?” आलिया ने गुस्से में पूछा.

“रोक तो लेता पर यकीन नही था कि तुम रुक जाओगी”

“तुम कह कर तो देखते” आलिया सुबक्ते हुवे बोली.

“ओह्ह…आलिया आइ लव यू…”

“पता नही क्यों…. बट आइ लव यू टू राज” आलिया ने कहा.

“मुझे कुछ समझ नही आ रहा था कि वापिस कैसे जाऊंगा”

“और मैं सोच रही थी कि तुम्हारे बिना कैसे जी पाउंगी”

“अच्छा हुवा तुम वापिस आ गयी वरना दिल्ली से मेरी लाश ही जाती”

“ऐसा मत कहो… मैं वापिस क्यों नही आती. अम्मी,अब्बा और फातिमा को तो खो चुकी हूँ, तुम्हे नही खो सकती राज”

उन्हे उस पल किसी बात का होश नही रहता. प्यार और होश शायद मुश्किल से साथ चलते हैं.
“पता है…मैं तुम्हे बिल्कुल लाइक नही करता था”

“मैं भी तुमसे बहुत नफ़रत करती थी”

“ऐसा कैसे हो गया? ये सब सपना सा लगता है” राज ने कहा

“ये तो पता नही…पर मुझे हमेशा अपने पास रखना राज, तुम्हारे बिना मैं नही जी सकती”

“तुम मेरी जींदगी हो जरीना, मेरे पास नही तो और कहा रहोगी”

“पर अब हम जाएँगे कहा…. मुझे नही लगता कि हम दोनो उस नफ़रत के माहोल में रह पाएँगे?”

“चिंता मत करो, प्यार हुवा है तो इस प्यार के लिए कोई ना कोई सुकून भरा आशियाना भी ज़रूर मिल जाएगा”

दोनो हाथो में हाथ ले कर चल पड़ते हैं किसी अंजानी राह पर जिसकी मंज़िल का भी उन्हे नही पता. प्यार की राह पर मंज़िल की वैसे परवाह भी कौन करता है.जिस तरह नदी पहाड़ को चीर कर अपना रास्ता बना लेती है. उसी तरह प्यार भी इस कठोर दुनिया में अपने लिए रास्ते निकाल ही लेता है. तभी शायद इतनी नफ़रत के बावजूद भी दुनिया में प्यार… आज भी ज़ींदा है.

राज और आलिया एक दूसरे का हाथ थाम कर चल दिए. पर उन्हे जाना कहा था ये वो तैय नही कर पाए थे. नया नया प्यार हुवा था वो दोनो अभी बस उसमें खोए थे. जींदगी की कठोर सचाईयों का सामना उन्हे अभी करना था.

“वापिस चले क्या जरीना?”

“तुम्हे क्या लगता है लोग हमें वहा जीने देंगे. मैं वहा नही रह पाउंगी अब.”

“पर यहा हमारा कुछ नही है. घर बार सब गुजरात में ही है. यहा पैर जमाना मुश्किल होगा.”

“हम कोशिश तो कर ही सकते हैं.”

“ठीक है ऐसा करते हैं फिलहाल किसी होटेल में चलते हैं और ठंडे दिमाग़ से सोचते हैं कि आगे क्या करना है.”

“हां ये ठीक रहेगा. मैं बहुत थक भी गयी हूँ. बहुत जोरो की भूक भी लगी है.”

“चलो पहले खाना ही खाया जाए. फिर होटेल चलेंगे.”

“हां बिल्कुल चलो.”

दोनो एक रेस्टोरेंट में बैठ जाते हैं और शांति से भोजन करते हैं.

“दाल मखनी का कोई जवाब नही. नॉर्थ इंडिया में बहुत पॉपुलर है ये.”

“हां अच्छी बनी है. मैं इस से भी अच्छी बना सकती हूँ.”

“तुमने घर तो कभी बनाई नही.”

“सीखूँगी ना जनाब तभी ना बनाऊंगी. मुझे यकीन है मैं इस से अच्छा बना लूँगी.”

बातो बातो में खाना हो जाता है और दोनो अब एक होटेल की तलाश में निकलते हैं.

“यहा शायद ही कोई अच्छा होटेल मिले. कही और चलते हैं.” आलिया ने कहा.

“तुम्हे कैसे पता.”

“जनाब मेरी मौसी के यहा आती रहती हूँ मैं, पता कैसे ना होगा.”

“ओह हां बिल्कुल. चलो कही और चलते हैं.” राज ने कहा.

Read More Kahani:-

No Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

मौसी की चूत का पानी पिया– 1 | Mausi Ki Chudai
First Time Chudai
शादी की पहली रात में चुदाई का माहौल बन गया- First Time Chudai

राघव और मैं हमारे ऑफिस के कैंटीन में बैठे हुए थे हम लोग उस वक्त लंच कर रहे थे मैंने राघव से पूछा राघव सब कुछ ठीक तो चल रहा है तो वह मुझे कहने लगा कि सोहन तुम्हें क्या बताऊं कुछ भी ठीक नहीं चल रहा है। वह बहुत …

Desi Sex Kahani
एक मुलाकत जरूरी है जानम- Desi Sex Kahani

मेरा परिवार गांव में ही रहता है मैं हरियाणा का रहने वाला हूं गांव में हम लोग खेती बाड़ी करके अपना गुजारा चलाते हैं। पिताजी भी अब बूढ़े होने लगे थे और मैंने भी जैसे तैसे अपनी पढ़ाई पूरी कर ली थी लेकिन वह चाहते थे कि मैं किसी अच्छी …

Mami ki Chudai ki Kahani
XXX Story in Hindi
चूतों के सागर में गोते लगाए- XXX Story in Hindi

मै लखनऊ का रहने वाला हूं दिल्ली से ही मैंने अपनी कॉलेज की पढ़ाई पूरी की थी और उसके बाद मैं दिल्ली में ही जॉब करने लगा। मैं जिस कॉलोनी में रहता था उसी कॉलोनी में मेरी मुलाकात संजना के साथ हुई संजना से धीरे-धीरे मेरी दोस्ती होने लगी थी …